A coffee Cup.

बच्पन में जब माँ मुझे इंडियन कॉफ़ी हाउस लाती थी तब इस कप में बहुत सारी कॉफ़ी आती थी।
जवानी में वो घन्टौं ना खत्म होने वाली बातें न जाने कैसे इस एक कप के सहारे ही हो जाती थी।
अब ना तो इस में बहुत सारी कॉफ़ी आती है और ना ही अब ये घन्टौं चलता है। न जाने क्यूँ अब ये कप बहोत छोटा हो गया है।

No comments:

Post a Comment

Hello, Please Share Your Thoughts with Us. . .